Update

श्राद्ध क्यों मनाये जाते है

पितृदोष निवारण: श्राद्ध प्रतिवर्ष आश्विन कृष्ण पक्ष की प्रतिपदा से अमावस्या तक महालय यानी पितृपक्ष के पार्वण श्राद्ध निर्धारित रहते हैं। प्रौष्ठपदी पूर्णिमा से ही श्राद्ध आरंभ हो जाते है। इनमे ही प्रौष्ठपदी पूर्णिमा को मिला कर कुल 16 श्राद्धध कहलाते हैं। वैदिक परंपरा के अनुसार ब्रह्म वैवर्त पुराण में Read more…

By ravi dutt sharma, ago
Translate »