हनुमान जी दूर कर देंगे सारे दुख, शनिवार को करें पीपल का ये उपाय

मंगलवार और शनिवार को हनुमान जी का दिन कहा गया जाता है। कहा जाता है कि इस दिन पीपल की पूजा करने से हर मनोकामना पूरी होती है वहीं हनुमान जी आपको मालामाल कर देते है। अगर आप पैसों की समस्‍या या फिर रोग से परेशान हैं तो आप मंगलवार के दिन ये उपाय करें:

Read more: श्री बजरंग बाण

शनिवार को करें  ये उपाय



पीपल के पेड़ से 11 पत्ते तोड़ लाएं। पत्ते तोड़ते समय ध्यान रखें कि पत्‍त्‍ो कटे फटे न हों और न ही खंडित हों। इसके बाद इन पत्तों को साफ पानी या गंगाजल से धो लें। फिर कुमकुम, अष्टगंध और चंदन मिलाकर इन पत्‍तों पर श्रीराम का नाम लिखें। नाम लिखते समय हनुमान चालीसा का पाठ करें। इसके बाद श्रीराम लिखे हुए इन पत्तों की एक माला तैयार करें।

हनुमान जी

Hindi Astro Blog – blogger

तैयार पीपल के पत्तों की माला को किसी भी हनुमानजी के मंदिर में जाकर उनकी प्रतिमा को अर्पित करें। इस प्रकार यह उपाय हर मंगलवार और शनिवार को करते रहें। कुछ समय बाद आपको सकारात्मक परिणाम मिलेंगे। वहीं आप धन और समृद्धि प्राप्ति के लिए प्रतिदिन रात्रि में सोने से पूर्व हनुमान जी के सम्मुख सरसों के तेल का मिट्टी का दीपक जलाएं और हनुमान चालीसा का पाठ करें


धन आगमन मार्ग को बाधारहित करने के लिए रामायण या श्रीरामचरित मानस का पाठ करें या रोजाना इनके दोहे पढ़ें। साथ ही रोजाना हनुमान जी को धूप-अगरबत्ती और फूल अर्पित करें। हनुमानजी का फोटो घर में पवित्र स्थान पर इस प्रकार से लगाएं कि हनुमान जी दक्षिण दिशा की ओर देखते हुए दिखाई दें।

Read more: श्री हनुमान चालीसा

यह उपाय आपके विरोधियों को शान्त कर, धन देगा। मनोवांछित कामना पूर्ण करने के लिए अपनी सामर्थ्य अनुसार किसी विशेष पर्व या तिथि पर हनुमान जी का विशेष श्रृंगार करें। प्रत्येक मंगलवार या शनिवार को सिंदूर एवं चमेली का तेल हनुमानजी को अर्पित करें। इस उपाय से भक्त की सभी इच्छाएं पूरी होती हैं। कच्ची घानी के तेल के दीपक में लौंग डालकर हनुमान जी की आरती करें, संकट दूर होगा और धन प्राप्त होगा

Related Posts

Update

नवरात्र व्रत, पूजन विधि

नवरात्र व्रत, पूजन विधि नवरात्र का पर्व, भारत में हिन्दू धर्म ग्रंथ एवं पुराणों के अनुसार माँ दुर्गा के विभिन्न स्वरुपो की आराधना का श्रेष्ठ समय होता है। हिन्दू पंचांग की गणना के अनुसार नवरात्र  Read more…

Update

श्राद्ध क्यों मनाये जाते है

पितृदोष निवारण: श्राद्ध प्रतिवर्ष आश्विन कृष्ण पक्ष की प्रतिपदा से अमावस्या तक महालय यानी पितृपक्ष के पार्वण श्राद्ध निर्धारित रहते हैं। प्रौष्ठपदी पूर्णिमा से ही श्राद्ध आरंभ हो जाते है। इनमे ही प्रौष्ठपदी पूर्णिमा को Read more…

Update

क्यों मनाया जाता है नागपंचमी का त्योहार

 क्यों मनाया जाता है नागपंचमी का त्योहार पूरे भारत में आज नागपंचमी मनाई जा रही है। हिन्दी और संस्कृत में नाग का मतलब सांप है और नागों को समर्पित इस त्योहार के दिन उनकी पूजा Read more…

Translate »