क्यों मनाया जाता है नागपंचमी का त्योहार

पूरे भारत में आज नागपंचमी मनाई जा रही है। हिन्दी और संस्कृत में नाग का मतलब सांप है और नागों को समर्पित इस त्योहार के दिन उनकी पूजा की जाती है। हिन्दू धर्म में लोग सांपों को बहुत महत्व देते हैं। हिन्दू कैलेंडर में अनुसार श्रावण मास की शुक्ल पंचमी को नागपंचमी के रूप में मनाया जाता है।

शिव भक्तों के लिए श्रावण महीने का विशेष महत्व होता है। यह महीना पूर्ण रूप से भगवान शिव को समर्पित होता है और भगवान शिव के जीवन में सांपों का विशेष स्थान रहा है इसलिए यह दिन शिव भक्तों के लिए और भी खास हो जाता है। नागपंचमी के दिन नाग देवता को दूध, चावल और फूल आदि समर्पित कर पूजा की जाती है ताकि भक्तों को उनका आर्शीवाद मिलें। हिन्दुओं का यह त्योहार भारत के कई हिस्सों में मनाया जाता है। उज्जैन में नागचंद्रेश्वर और महाकालेश्वर मंदिर के कपाट भक्तों के लिए खोल दिए जाते हैं, जहां सुबह से ही भक्त दर्शन करने पहुंचते हैं।

Read more: श्री शिव चालीसा 

नागों को दूध चढ़ाने का महत्व

एक पौराणिक कथा के अनुसार कालिया नाम का एक सांप था जिसने एक बार यमुना नदी में अपना विष (जहर) छोड़ दिया जिस कारण ब्रजवासियों का पानी पीना मुश्किल हो गया था।

तब भगवान श्री कृष्ण  ने कालिया नाग के साथ युद्ध किया और उसे हराने के बाद यमुना नदी से सारा विष वापस लेने पर मजबूर कर दिया। इसके बदले में भगवान कृष्ण ने कालिया नाग को आशीर्वाद देते हुए कहा था कि जो भी मनुष्य इस दिन (नागपंचमी) नागों को दूध पिलाएगा और उनकी पूजा करेगा वह सभी पापों और परेशानियों से मुक्त हो जाएगा।


पौराणिक कथा

इस त्योहार के साथ ऐसी ही दूसरी पौराणिक कथा जुड़ी है समुद्र मंथन की। पौराणिक हिन्दू कथा के अनुसार समुद्र-मंथन के दौरान जड़ी बूटियों और औषधियों का देवताओं और असुरों के बीच बंटवारा होना था। मगर समुद्र मंथन के दौरान अमृत के साथ-साथ विष से भरा एक घड़ा भी निकला जो पूरी सृष्टि को भी नष्ट कर सकता था।

Read moreश्री शिव चालीसा 

तब भगवान शिव ने उस सारे विष को पी लिया जिससे उनका गला नीला पड़ गया और तभी उन्हें नीलकंठ नाम दिया गया। इस पूरी प्रक्रिया में विष की कुछ बूंदें जमीन पर गिर गई जो भगवान शिव के करीबी सांपों ने पी ली। इस विष का प्रभाव काफी तेज था, जिसे शांत करने के लिए देवताओं ने भगवान शिव और सांपों का गंगा अभिषेक किया। इस दिन के महत्व को याद करते हुए भी सांपों को दूध पिलाया जाता है।

कालसर्प दोष

प्राचीन धार्मिक ग्रंथों के मुताबिक अगर किसी जातक की कुंडली में कालसर्प दोष हो तो उसे नागपंचमी के दिन भगवान शिव और नागदेवता की पूजा करनी चाहिए। कहा जाता है कि इस दिन शिवलिंग और सांपों को दूध और चावल चढ़ाने आपके जीवन की सभी आपदाएं दूर हो जाती हैं।

नागों को लेकर हिन्दुओं का एक अलग ही विशवास रहा है। शास्त्रों में भी भगवान शिव के गले में पड़े एक सांप का वर्णन किया गया है। शिव गले में लगे तीन लच्छे भूत, भविष्य और वर्तमान के संकेत हैं। इतना ही नहीं भगवान विष्णु भी शांत और ध्यान की मुद्रा में पांच सिर वाले शेषनाग का प्रतिनिधित्व करते हैं।

आप सभी को नागपंचमी की हार्दिक शुभकामनाएं।


1 Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Posts

Update

नवरात्र व्रत, पूजन विधि

नवरात्र व्रत, पूजन विधि नवरात्र का पर्व, भारत में हिन्दू धर्म ग्रंथ एवं पुराणों के अनुसार माँ दुर्गा के विभिन्न स्वरुपो की आराधना का श्रेष्ठ समय होता है। हिन्दू पंचांग की गणना के अनुसार नवरात्र  Read more…

Update

श्राद्ध क्यों मनाये जाते है

पितृदोष निवारण: श्राद्ध प्रतिवर्ष आश्विन कृष्ण पक्ष की प्रतिपदा से अमावस्या तक महालय यानी पितृपक्ष के पार्वण श्राद्ध निर्धारित रहते हैं। प्रौष्ठपदी पूर्णिमा से ही श्राद्ध आरंभ हो जाते है। इनमे ही प्रौष्ठपदी पूर्णिमा को Read more…

Update

हनुमान जी दूर कर देंगे सारे दुख, शनिवार को करें पीपल का ये उपाय

हनुमान जी दूर कर देंगे सारे दुख, शनिवार को करें पीपल का ये उपाय मंगलवार और शनिवार को हनुमान जी का दिन कहा गया जाता है। कहा जाता है कि इस दिन पीपल की पूजा Read more…

Translate »