ज्योतिष क्या है

सदियों से मनुष्य खुद को मार्गदर्शन करने में सक्षम हैं। ज्योतिष, पृथ्वी पर होने वाले ग्रहों और घटनाओं के खगोलीय स्थितियों के बीच के संबंधों के अध्ययन को सरल रूप से प्रस्तुत करते हैं। ज्योतिषी मानते हैं कि किसी व्यक्ति के जन्म के समय सूर्य, चंद्रमा और ग्रहों की स्थिति का उस व्यक्ति के चरित्र पर सीधा असर होता है। ये पद एक व्यक्ति के भाग्य को प्रभावित करने के लिए लगाए जाते हैं, हालांकि कई ज्योतिषी स्वतंत्र महसूस करते हैं, किसी भी व्यक्ति की ज़िन्दगी एक बड़ी भूमिका निभाते हैं।

हम, कैफे ज्योतिष में, महसूस करते हैं कि ज्योतिष स्वयं को, दूसरों को और हमारे चारों ओर की दुनिया को समझने के लिए एक शक्तिशाली और मज़ेदार उपकरण के रूप में इस्तेमाल किया जा सकता है। हमारी दुनिया को परिभाषित करने और समझने के लिए हम कई विभिन्न उपकरणों या भाषाओं का उपयोग करते हैं। उदाहरण के लिए, हम मानवीय व्यवहार का पता लगाने के लिए मनोवैज्ञानिक उपकरण और शब्दावली का उपयोग कर सकते हैं। इसी तरह, ज्योतिष शास्त्र हमें मानव चरित्र को समझने के लिए समृद्ध उपकरण देता है, और हमें दूसरों के साथ हमारे टिप्पणियों के संचार के लिए एक भाषा प्रदान करता है।

जन्म पत्र या कुंडली

जब भी हम किसी व्यक्ति या घटना के रूप में “खिड़की” के रूप में प्रसव चार्ट (जन्म पत्र या कुंडली भी कहते हैं) का इस्तेमाल कर सकते हैं, तो हमें निर्णय का पालन करने या लोगों को लेबल करने के लिए कभी इसका उपयोग नहीं करना चाहिए, न तो हमें इसे हमारे व्यवहार के रूप में प्रयोग करना चाहिए! हम कभी भी एक अपूर्ण भाषा के रूप में ज्योतिष को नहीं जानना चाहते थे, भले ही यह सही था, हम भी नहीं हैं, इसलिए हमारी व्याख्याएं कभी भी नहीं मानी जा सकतीं यह भी ज्योतिष का विषय है जो “सभी को जानना”, या सख्त भविष्यवाणी करता है। इस प्रकार का व्यवहार न केवल बेजान और भ्रामक है, यह उन लोगों के जीवन को प्रभावित कर सकता है जो प्रतिकूल तरीके से उन पर विश्वास करते हैं।


1 Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Posts

Update

नवरात्र व्रत, पूजन विधि

नवरात्र व्रत, पूजन विधि नवरात्र का पर्व, भारत में हिन्दू धर्म ग्रंथ एवं पुराणों के अनुसार माँ दुर्गा के विभिन्न स्वरुपो की आराधना का श्रेष्ठ समय होता है। हिन्दू पंचांग की गणना के अनुसार नवरात्र  Read more…

Update

श्राद्ध क्यों मनाये जाते है

पितृदोष निवारण: श्राद्ध प्रतिवर्ष आश्विन कृष्ण पक्ष की प्रतिपदा से अमावस्या तक महालय यानी पितृपक्ष के पार्वण श्राद्ध निर्धारित रहते हैं। प्रौष्ठपदी पूर्णिमा से ही श्राद्ध आरंभ हो जाते है। इनमे ही प्रौष्ठपदी पूर्णिमा को Read more…

Update

हनुमान जी दूर कर देंगे सारे दुख, शनिवार को करें पीपल का ये उपाय

हनुमान जी दूर कर देंगे सारे दुख, शनिवार को करें पीपल का ये उपाय मंगलवार और शनिवार को हनुमान जी का दिन कहा गया जाता है। कहा जाता है कि इस दिन पीपल की पूजा Read more…

Translate »